जलवायु परिवर्तन और बेमौसम बरसात के कारण भारत के कई राज्यों में टिड्डियों के हमलों में बढ़ोतरी

जलवायु परिवर्तन और बेमौसम बरसात के कारण भारत के कई राज्यों में टिड्डियों के हमलों में बढ़ोतरी

Share this article Share this article
published Published on Jun 17, 2020   modified Modified on Jun 17, 2020

कोविड-19 लॉकडाउन के बीच, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में मई 2020 की दूसरी छमाही में रेगिस्तानी टिड्डियों के झुंड देखे गए हैं. हाल ही में रेगिस्तानी टिड्डियों के झुंडों द्वारा किए गए हमलों ने इन राज्यों में बड़े पैमाने पर फसलों, मवेशियों के चरागाहों और हरी वनस्पतियों को नुकसान पहुंचाया है.

एक आधिकारिक अनुमान के मुताबिक, 25 मई, 2020 तक राजस्थान के 33 जिलों की आधे से अधिक भूमि टिड्डी आक्रमण से प्रभावित थी, जिससे कि 5 लाख हेक्टेयर में खड़ी फसल बर्बाद हो गई है.

फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गनाइजेशन (एफएओ) के अनुसार रेगिस्तानी टिड्डियां देश की खाद्य सुरक्षा के लिए एक बड़ा खतरा होती हैं क्योंकि एक जवान टिड्डी प्रतिदिन अपने खुद के वजन के बराबर ही ताजा भोजन खा सकती है, जोकि हर दिन लगभग दो ग्राम के बराबर है. एक वर्ग किलोमीटर के आकार के टिड्डियों के झुंड में लगभग 4 करोड़ टिड्डियां होती हैं, जो एक दिन में लगभग 35,000 व्यक्तियों के बराबर भोजन खा सकते हैं. यह अनुमान संयुक्त राज्य अमेरिका के कृषि विभाग (यूएसडीए) के अनुसार प्रति दिन औसतन 2.3 किलो भोजन खाने वाले व्यक्ति पर आधारित है.

एफएओ के 27 मई, 2020 को जारी रेगिस्तानी टिड्डी पर सिचुएशन अपडेट में कहा गया है कि "पश्चिम से राजस्थान में आने वाले" फाका टिड्डी (छोटे या नौजवान टिड्डी) समूहों ने राज्य के पूर्वी हिस्से और मध्य भारत में पूर्व की ओर मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र की तरफ बढ़ना जारी रखा. 26 मई तक, कम से कम एक झुंड भोपाल के उत्तर-पूर्व में पहुंच गया था. इनमें से अधिकांश टिड्डी दलों की आवाजाही, बंगाल की खाड़ी में उठने वाली चक्रवात अम्फान की तेज हवाओं से जुड़ी हुई थी. टिड्डियों पर नियंत्रण पाने के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है. जुलाई तक टिड्डी दलों के कई सफल हमले देखे जा सकते हैं. राजस्थान के साथ साथ उत्तर भारत में बिहार और उड़ीसा में पश्चिम की ओर बढ़ने और मॉनसून से जुड़ी बदलती हवाओं के कारण राजस्थान में वापसी के साथ जुलाई तक टिड्डियों के हमले बढ़ने की उम्मीद है. टिड्डियों के इन हमलों को रोकने की कोशिश रहेगी क्योंकि इस समय टिड्डियां प्रजनन करना शुरू कर देती हैं और उनकी उड़ने की क्षमता कम हो जाती है. दक्षिण भारत, नेपाल और बांग्लादेश तक इन टिड्डियों के पहुँचने की संभावना कम है.”

स्रोत: खाद्य और कृषि संगठन

---

राजस्थान की भारत-पाकिस्तान सीमा से मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा तक रेगिस्तानी टिड्डों की आवाजाही को उपरोक्त मानचित्र से स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है.

27 मई, 2020 के एफएओ के डेजर्ट टिड्डे सिचुएशन अपडेट का हवाला देते हुए, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि जवान टिड्डियां पाकिस्तान और ईरान के बलूचिस्तान, सिंधु घाटी (पाकिस्तान) के वसंत प्रजनन क्षेत्रों और दक्षिणी तट और सिस्तान-बलूचिस्तान के कुछ हिस्सों में बड़े और छोटे झुंड बना रहे हैं. ये टिड्डियां चोलिस्तान से थारपारकर तक भारत-पाकिस्तान सीमा से ग्रीष्मकालीन प्रजनन क्षेत्रों से घुसपैठ कर सकती हैं.

वर्तमान दौर में टिड्डियों के हमले

प्लांट प्रोटेक्शन, क्वारंटाइन एंड स्टोरेज निदेशालय द्वारा पाक्षिक रूप से प्रकाशित होने वाले टिड्डी बुलेटिन से पता चलता है कि लगभग एक महीने (मार्च 2020 की पहले और दूसरे पखवाड़े को मिलाकर) नियमित और विशेष सर्वेक्षणों के दौरान कोई रेगिस्तानी टिड्डी गतिविधियां नहीं पाई गईं.

उससे पहले, राजस्थान के श्रीगंगानगर और पंजाब के फाजिल्का में फरवरी 2020 की दूसरे पखवाड़े के दौरान कम घनत्व वाले परिपक्व वयस्क टिड्डी दल देखे गए थे.

इस साल अप्रैल के शुरूआती दिनों से स्थिति में नाटकीय बदलाव आया है. इस साल अप्रैल के पहले पखवाड़े के दौरान, भारत-पाक सीमा क्षेत्रों के पास राजस्थान के जैसलमेर और सूरतगढ़ और पंजाब के फाजिल्का में कम घनत्व और इंस्टार ग्रैगरियस / क्षणिक हॉपर दल देखे गए.

इस साल मई के पहले पखवाड़े तक, वयस्क रेगिस्तानी टिड्डी दलों ने बलूचिस्तान और पाकिस्तान में सिंधु घाटी के प्रजनन क्षेत्रों से भारत की सीमा की ओर पलायन करना शुरू कर दिया. इसके साथ ही, जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर, फलोदी, बीकानेर, नागौर और गंगानगर में अपरिपक्व वयस्क समूह देखे गए.

कृपया ध्यान दें कि परिपक्व वयस्क समूहों को मार्च के पहले पखवाड़े में खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान में अंडे देते पाया गया था जिनके मार्च के दूसरे पखवाड़े के दौरान और बाद में हॉपर समूहों और छोटे बैंड बनने की उम्मीद है.

स्रोत: खाद्य और कृषि संगठन

---

एफएओ के पूर्वानुमानों के अनुसार, इस साल (2020) राजस्थान और गुजरात में टिड्डियों के लगातार हमले हो सकते हैं. कृपया ऊपर दिए गए नक्शे में अलग-अलग स्रोत क्षेत्रों से भारत में आने वाली टिड्डियों को देखें. टिड्डियां दक्षिण पश्चिम पाकिस्तान के वसंत प्रजनन क्षेत्रों से भारत आएंगी, इसके बाद दक्षिणी ईरान के प्रजनन क्षेत्रों से टिड्डियां आएंगी. छोटे आकार की वयस्क टिड्डियों के दल भी उत्तरी ओमान से राजस्थान और गुजरात में आ सकते हैं. ऐसा अनुमान है कि इस वर्ष जुलाई से शुरू होकर, अफ्रीका से लेकर गुजरात और राजस्थान यानी हिंद महासागर में अधिक टिड्डियां प्रवास करेंगी.

भारत में रेगिस्तानी टिड्डियों का प्रजनन काल

गौरतलब है कि रेगिस्तानी टिड्डी एक सर्वाहारी, प्रवासी कीट है, जो सामूहिक रूप से दल बनाकर सैकड़ों किलोमीटर तक उड़ सकती है. यह एक ट्रांस-बॉर्डर कीट है जो मुख्यत अफ्रीका, मध्य पूर्व और एशिया में पाया जाती है, और बड़े झुंडों में फसल पर हमला करती है. टिड्डियां लगभग 60 देशों में पाई जाती हैं और संख्याबल में ये टिड्डियां धरती के पांचवें हिस्से को कवर कर सकती हैं. दुनिया की मानव आबादी के दसवें हिस्से की आर्थिक आजीविका को रेगिस्तानी टिड्डियों से खतरा हो सकता है. रेगिस्तान में पाए जाने वाली टिड्डियां आम तौर पर गर्मियों के मानसून के मौसम के दौरान अफ्रीका, खाड़ी या दक्षिण पश्चिम एशिया से भारत आती हैं और वसंत प्रजनन के लिए ईरान, खाड़ी और अफ्रीकी देशों की ओर वापस चली जाती हैं.

आमतौर पर, दक्षिण-पश्चिम मानसून की अवधि और तीव्रता के आधार पर, जुलाई और सितंबर-अक्टूबर के बीच भारत में रेगिस्तानी टिड्डियों के प्रजनन के लिए पारिस्थितिक परिस्थितियां अक्सर अनुकूल होती हैं. मानसून के मौसम के बाद, वर्षा की अनुपस्थिति में वनस्पति सूख जाती है. वर्ष के शेष भाग में (यानी दिसंबर और मई के बीच), शुष्क और प्रतिकूल परिस्थितियां प्रबल होती हैं और तापमान, विशेष रूप से रात के दौरान, कम होता है.

प्रवासी टिड्डी आबादी पश्चिमी भारत के रेगिस्तानी इलाकों में गर्मियों की अवधि के दौरान, मुख्य रूप से पश्चिमी राजस्थान में और गुजरात में कुछ हद तक, लगभग जून और नवंबर के बीच पाई जा सकती है. टिड्डियों की ग्रीष्मकालीन प्रजनन प्रक्रिया दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगमन के साथ शुरू होती है, जो आमतौर पर जून के दूसरे पखवाड़े में या जुलाई की शुरुआत में होती है.

पिछले साल देश में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगमन और लंबे समय तक रहने के कारण, भारत के पश्चिमी हिस्सों में रेगिस्तानी टिड्डियों के लिए अनुकूल प्रजनन की स्थिति अक्टूबर के बाद भी बनी रही. कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि मानसून पिछले साल पूरे साल रहा, जिसकी वजह से दिसंबर 2019 में राजस्थान में टिड्डी हमले हुए.

मानसून से पहले, पश्चिमी विक्षोभ की बढ़ती आवृत्ति के कारण होने वाली बेमौसम बारिश ने रेगिस्तानी टिड्डियों के लिए इस साल अप्रैल से राजस्थान के पश्चिमी हिस्सों में पलायन करने की अनुकूल स्थिति पैदा कर दी. वर्षा के बाद रेगिस्तानी वनस्पतियों में टिड्डियों के प्रजनन की अनुकूल स्थितियां पैदा हुई.

जलवायु परिवर्तन से कारण आने वाले चक्रवातों और टिड्डियों के हमलों के बीच संबंध

26 मई, 2020 को प्रकाशित TheWire.in की एक खबर के अनुसार, “पॉजीटिव हिंद महासागर डिपोल (IOD) के कारण, समुद्र के पश्चिमी भाग में अपेक्षाकृत गर्म पानी (अर्थात पूर्वी अफ्रीका के पास) और इसके दक्षिण-पूर्वी भाग में अपेक्षाकृत ठंडा पानी मिलता है (अर्थात ऑस्ट्रेलिया के आसपास) ग्लोबल वार्मिंग के कारण बढ़ते तापमान ने आईओडी को बढ़ा दिया है और भारतीय महासागर के पश्चिमी हिस्से को विशेष रूप से गर्म बना दिया है.” पॉजीटिव आईओडी के कारण भारी तूफान / चक्रवात और अफ्रीका के पूर्वी हिस्सों और अरब प्रायद्वीप के रेगिस्तानी इलाकों में अत्यधिक बारिश होती है, जो टिड्डियों को प्रजनन और फलने-फूलने के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करता है. पॉजिटिव IOD के कारण दक्षिण-पूर्व एशिया में सूखा भी पड़ता है और ऑस्ट्रेलिया में झाड़ियों में आग भी लगती है.

गौरतलब है कि जलवायु परिवर्तन के कारण हाल के वर्षों में चक्रवात और बेमौसम बारिश जैसी चरम मौसम घटनाओं की आवृत्ति में बढ़ोतरी हुई है. रेगिस्तानी टिड्डियों पर एक वेबिनार, जो 29 मई, 2020 को डाउन टू अर्थ द्वारा आयोजित किया गया था, में इस बात पर चर्चा हुई कि रेगिस्तानी इलाकों में बारिश की वजह से टिड्डियों के प्रजनन की सही स्थिति बन जाती है. अगर बारिश अप्रत्याशित और लंबे समय तक होती है, तो टिड्डियों के फलने-फूलने के लिए सही परिस्थितियां पैदा करती हैं. अनियमित वर्षा के बाद लहला उठने वाली वनस्पति, उन्हें खाद्य आपूर्ति प्रदान करके टिड्डियों की आबादी को बढ़ाने में मददगार साबित होती है. उच्च तापमान भी उनकी आवाजाही और विकास के लिए टिड्डियों की मददगार साबित होता है.

साल 2018 के मई महीने में आए चक्रवात मेकुनु के बाद अक्टूबर 2018 में बहुत ही भयंकर चक्रवाती तूफान लुबन ने अरब प्रायद्वीप में प्रवेश किया. साइक्लोन पवन ने दिसंबर 2019 में सोमालिया को प्रभावित किया. मई 2018 में चक्रवाती तूफान सागर से सोमालिया भी प्रभावित हुआ था. चक्रवात मेकुनु और लुबन के परिणामस्वरूप अरब प्रायद्वीप के रेगिस्तानी इलाकों में, जैसे कि रब अल-खली में झीलें बन गईं. इसलिए, टिड्डियों के प्रजनन के लिए अनुकूल वातावरण होने के कारण उनकी आबादी में तेजी से वृद्धि हुई. बाद में एक समूह पूर्वी अफ्रीका में प्रवास कर गया और दूसरा ईरान में, उसके बाद 2019 में पाकिस्तान और फिर भारत तक इन टिड्डियों का पलायन जारी रहा.

---

---

टिड्डी नियंत्रण ऑपरेशन

एक सरकारी दस्तावेज में यह जानकारी दी गई है कि, 11 अप्रैल, 2020 तक कुल 377 स्थानों में 53,997 हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण ऑपरेशन किए गए हैं. टिड्डी नियंत्रण ऑपरेशन के लिए अबतक राजस्थान के 22 जिले, मध्य प्रदेश में 24, गुजरात में दो, पंजाब में एक, उत्तर प्रदेश में दो, और महाराष्ट्र में तीन जिले कवर किए गए हैं.

2019-20 के दौरान भी देश में टिड्डियों के हमले भी हुए. 21 मई, 2019 और 17 फरवरी, 2020 के बीच, कुल 4.03 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डियों को खत्म करने के लिए दवाई का छिड़काव किया गया ताकि टिड्डियों को खत्म किया जा सके और टिड्डियों की आबादी को सफलतापूर्वक नियंत्रित किया जा सके. राजस्थान और गुजरात के राज्य कृषि विभागों ने भी फसली क्षेत्रों में टिड्डी नियंत्रण कार्यों के दौरान अपनी भूमिका अदा की. साल 2019-20 के दौरान, राजस्थान के 11 जिलों में 3.94 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में, गुजरात के दो जिलों में 9,505 हेक्टेयर क्षेत्र और पंजाब के एक जिले में 50 हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण ऑपरेशनों को अंजाम दिया गया.

साल 1962 तक भारत में लगभग 12 बार टिड्डियों के हमले हुए थे. तब से लेकर अब तक देश में कोई टिड्डी प्लेग नहीं आया. 1964 और 1997 के बीच लगभग 13 बार टिड्डियों की उपस्थिति दर्ज की गई. 1998, 2002, 2005, 2007 और 2010 के वर्षों में छोटे पैमाने पर स्थानीय टिड्डियों के प्रजनन की रिपोर्ट की गई जिन्हें प्रभावी रूप से नियंत्रित किया गया था.

भारत में, 2 लाख वर्ग किलोमीटर से अधिक क्षेत्र संरक्षित रेगिस्तान क्षेत्र के अंतर्गत आता है. टिड्डी चेतावनी संगठन और 10 टिड्डी सर्किल कार्यालय (LCO) भारत सरकार, राजस्थान (जैसलमेर, बीकानेर, फलौदी, बाड़मेर, जालौर, चूरू, नागौर, सूरतगढ़) और गुजरात (पालनपुर और भुज) में स्थित हैं, जो राज्य सरकारों के समन्वय में रेगिस्तान क्षेत्र में रेगिस्तानी टिड्डियों का सर्वेक्षण और नियंत्रण, टिड्डियों की निगरानी करते हैं.

चूंकि मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण पर रासायनिक कीटनाशकों के छिड़काव के दुष्प्रभाव हैं, विशेषज्ञों ने रेगिस्तान टिड्डी आबादी को नियंत्रित करने के लिए जैव कीटनाशकों, एकीकृत कीट प्रबंधन आदि की मदद लेने का सुझाव दिया है.

References:

Frequently Asked Questions (FAQs) about locusts, Food and Agriculture Organisation, please click here to access

FAO Commission for Controlling the Desert Locust in South-West Asia (SWAC), please click here to access

FAO Desert Locust Situation Update dated 27th May 2020, please click here to access 

Locust Bulletin, 1st to 15th May 2020, Directorate of Plant Protection, Quarantine and Storage, Department of Agriculture, Cooperation and Farmers' Welfare, please click here to access

Locust Bulletin, 1st to 15th April 2020, Directorate of Plant Protection, Quarantine and Storage, Department of Agriculture, Cooperation and Farmers' Welfare, please click here to access 

Locust Bulletin, 16th to 31st March 2020, Directorate of Plant Protection, Quarantine and Storage, Department of Agriculture, Cooperation and Farmers' Welfare, please click here to access

Locust Bulletin, 1st to 15th March 2020, Directorate of Plant Protection, Quarantine and Storage, Department of Agriculture, Cooperation and Farmers' Welfare, please click here to access 

Locust Bulletin, 16th to 29th February, 2020, Directorate of Plant Protection, Quarantine and Storage, Department of Agriculture, Cooperation and Farmers' Welfare, please click here to access

An overview on locust control and research, Directorate of Plant Protection, Quarantine and Storage, Department of Agriculture, Cooperation and Farmers' Welfare, Ministry of Agriculture and Farmers' Welfare, please click here to access

Press release: Locust control operations conducted today at 15 locations in Rajasthan and Madhya Pradesh, dated 29th May, 2020, Ministry of Agriculture and Farmers' Welfare, Press Information Bureau, please click here to access

Press release: Amidst a wave of locust swarms sweeping across northern India, control operations stepped up in the affected states of Rajasthan, Punjab, Gujarat and Madhya Pradesh, dated 27th May, 2020, Ministry of Agriculture and Farmers' Welfare, Press Information Bureau, please click here to access

Press Information Bureau’s Daily Bulletin on COVID-19, dated 25th May, 2020, please click here to access

Down to Earth Webinar on Locust Attacks, Centre for Science and Environment, dated 29th May, 2020, please click here to access

Locust control: ‘govt. ignoring non-chemical measures’, The Hindu, 1 June, 2020, please click here to access  

Climate Change Tracker: Why did the locust swarm come to India? -Bibek Bhattacharya, Livemint.com, 28 May, 2020, please click here to access

Climate Change Brings the Worst Locust Attack in Decades to India -Kabir Agarwal and Shruti Jain, TheWire.in, 26 May, 2020, please click here to read more

Indian Ocean Dipole: What is it and why is it linked to floods and bushfires? BBC, 7 December, 2019, please click here to access

Image Courtesy: FAO, please click here to access



Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close