जातिवाद की जहरीली फसल

Share this article Share this article
published Published on Jun 9, 2021   modified Modified on Jun 9, 2021

-कारवां,

जुलाई 1967 में बुधवार की एक शाम का वाकया है, जब दो गोरे पुलिस अधिकारी एक काले व्यक्ति जॉन विलियम स्मिथ को नेवार्क शहर के सीमांत पर स्थित अपनी इमारत के परिसर में घसीट कर ले जा रहे थे. स्मिथ एक टैक्सी ड्राइवर थे और उन्हें अभी-अभी गिरफ्तार किया गया था और उन्हें इतनी बेरहमी से पीटा गया था कि वह चल नहीं पा रहे थे. उनके ऊपर उन अधिकारियों की कार को गलत तरीके से पार करने के कथित अपराध का आरोप लगाया गया था. एक आवासीय परिसर के निवासियों ने उन्हें घसीटे जाते हुए देखा और एक अफवाह फैल गई : “पुलिस ने एक और काले व्यक्ति को मार डाला.” एक भीड़ उमड़ पड़ी और उस इमारत पर हमला कर दिया. पांच दिनों तक पूरे शहर में हिंसा का माहौल बना रहा जिसमें दो दर्जन से अधिक लोगों की जान गई. कुछ ने इसे दंगा कहा तो कुछ ने विद्रोह.

यह वाकया तो उस दौर की चरम उत्तेजना का महज एक उदाहरण है जिसे “1967 की लंबी गर्मी” के रूप में जाना जाता है. इस दौर में अमरीका में 150 से अधिक "नस्लीय दंगे" हुए जिनमें चिंगारी भड़कने का आम कारण काले लोगों के खिलाफ पुलिस की बर्बरता थी. इस चिंगारी ने आक्रोश के एक लंबे सिलसिले का रूप ले लिया- 1966 में होफ में, 1965 में वाट्स में, 1964 और 1943 में हार्लेम में, 1935 और 1919 में शिकागो में और इसी तरह अनेक अन्य शहरों में भी. वियतनाम पर हमले के चलते पहले से ही लोगों के गुस्से से जूझ रहे अमेरिकी राष्ट्रपति लिंडन बी. जॉनसन को इस नए संकट का भी सामना करना पड़ा. उन्होंने तीन सवालों के जवाब देने के लिए एक समिति बनाई : “क्या हुआ? ऐसा क्यों हुआ? और दुबारा ऐसा न हो, इसके लिए क्या किए जाने की जरूरत है?"

कर्नर आयोग ने अपने काम के दौरान, अपने शोध में सहयोग के लिए समाज-वैज्ञानिकों के एक समूह की मदद ली. आयोग के समक्ष प्रस्तुत उनके मसौदे से उभरते हुए ब्लैक पावर आंदोलन की उग्र भाषा और विचारों की अनुगूंज सुनाई दे रही थी और इस मसौदे ने कुछ चेतावनी भरे निष्कर्ष भी निकाले. शोधकर्ताओं ने लिखा कि, मौजूदा हालात में, अमरीका एक पूर्ण विकसित नस्लीय युद्ध की दिशा में अग्रसर है, जिसमें “अमरीका के प्रमुख शहरों में गोरों की सत्ता के खिलाफ काले युवाओं के छापामार युद्ध" भी शामिल हैं. इन परिस्थितियों से बाहर निकलने का एकमात्र उपाय यह है कि अब तक इस समुदाय को “नाममात्र के लिए दी जा रही छोटी-मोटी रियायतों" से आगे बढ़कर कुछ प्रभावी बुनियादी बदलाव किए जाएं. इसके लिए जरूरी है कि उग्र सुधार वाले ऐसे कार्यक्रम शुरू किए जाएं, जो काले समुदायों द्वारा झेली जा रही गरीबी और गतिरोध का शिकार हो चुकी सामाजिक-आर्थिक स्थिति का समाधान करने वाले हों, तथा जिनसे पुलिस तथा अन्य संस्थाएं, जो कालों के खिलाफ खुलेआम भेदभाव करती हैं, उनके रवैये में बदलाव हो. शोधकर्ताओं ने आगे लिखा कि “अभी भी समय है, कि हम एक राष्ट्र बने रहने के लिए हमारे बीच मौजूद नस्लवाद पर सम्मिलित हमला शुरू कर दें." यदि ऐसा नहीं होता है, तो "नस्लवाद की यह फसल अमेरिकी सपने का अंत कर देगी."

इस दस्तावेज को, इसके पहले पृष्ठ पर “इसे नष्ट कर दिया जाए" की टिप्पणी के साथ, गुमनामी के अंधेरे में फेंक दिया गया था. आधी सदी बाद यह एक अभिलेखागार में मिला और इसे प्रकाशित किया गया. इसे तैयार करने वाले सभी शोधकर्ताओं को बर्खास्त कर दिया गया था. फिर भी, जैसा कि इतिहासकार जूलियन ई ज़ेलिज़र ने लिखा है कि, उनके द्वारा एकत्र किए गए अधिकांश आंकड़े आयोग की अंतिम रिपोर्ट में भी बचे रह गए थे और इसके निष्कर्षों में भी शामिल थे. आयोग ने अपना “मूल निष्कर्ष प्रस्तुत किया : हमारा राष्ट्र काले और गोरे, दो पृथक और असमान समाजों की ओर बढ़ रहा है."

इस रिपोर्ट ने ऐसी किसी भी धारणा को खारिज कर दिया कि ये दंगे किसी बड़ी साजिश का हिस्सा थे, या कि पूरी शिद्दत से बदलाव का इंतजार कर रहे आम काले लोगों की बजाय सड़कों पर कुछ अन्य लोग उतर आए थे. जॉनसन की उम्मीद के विपरीत, यह रिपोर्ट उनके सामाजिक कार्यक्रमों के प्रति खास उम्मीद जगाने वाली नहीं थी, न ही यह समस्या के कारण के रूप में "नीग्रो परिवारों" की ढहती हुई व्यवस्था का रोना रो रही थी. (इसके पहले मोयनिहान रिपोर्ट के रूप में प्रस्तुत एक सरकारी अध्ययन में "नीग्रो परिवारों" की ढहती हुई व्यवस्था को ही समस्या का कारण बताया गया था.) इसके बजाय यह रिपोर्ट पुलिसिया हिंसा, संस्थागत बहिष्करण, बेरोजगारी और बिलगाव को दंगों का कारण बता रही थी, और यह आह्वान कर रही थी “एक ऐसी राष्ट्रीय कार्रवाई शुरू की जाए, जिसके मूल में अपार और शाश्वत करुणा का भाव हो और इसमें धरती के सबसे शक्तिशाली राष्ट्र के संसाधन खर्च किए जाएं," और हालांकि इस स्थिति को पैदा करने वाले कारक जटिल हैं, फिर भी “कुछ बुनियादी मामले स्पष्ट हैं. इनमें से सबसे प्रमुख है काले अमरीकियों के प्रति गोरे अमरीकियों का नस्लीय रवैया और व्यवहार. नस्लीय पूर्वाग्रह हमारे इतिहास पर अपना निर्णायक प्रभाव डाल चुका है; अब इससे हमारे भविष्य के भी प्रभावित होने का खतरा पैदा हो गया है."

जॉनसन ने पुरजोर तरीके से रिपोर्ट को स्वीकार करने से इंकार कर दिया, लेकिन वे इसे मार्च 1968 में इस सार्वजनिक होने से नहीं रोक सके. रिपोर्ट का दो टूक कथन बहुत सारे काले नेताओं के लिए एक अविश्वसनीय चीज थी. मार्टिन लूथर किंग, जूनियर, ने इस रिपोर्ट में गोरों के नस्लवाद की स्वीकृति को “एक कटु सत्य की महत्वपूर्ण आत्मस्वीकृति ” के रूप में वर्णित किया. नागरिक अधिकार कार्यकर्ता फ़्लोयड मैककिस्सिक ने इसे ऐतिहासिक मील का पत्थर के रूप में देखा और कहा कि “यह पहली बार है, जब गोरों ने कहा, ‘ हम नस्लवादी हैं’.”

अगले महीने मेम्फिस में हड़ताली सफाई कर्मचारियों के सामने भाषण देने के बाद किंग की हत्या कर दी गई थी. उसके बड़े पैमाने पर दंगे भड़कर उठे. अगल वर्ष के चुनावों में जॉनसन राष्ट्रपति पद के लिए पुनः निर्वाचन के लिए खड़े नहीं हुए और व्हाइट हाउस में उनका स्थान रिचर्ड निक्सन ने लिया था. नए राष्ट्र ने नस्लीय भेदभाव और असमानता पर नियंत्रण के लिए “राष्ट्रीय कार्रवाई” की मांग को अनसुना कर दिया. उन्होंने नस्लीय दंगों को “कानून और व्यवस्था” की समस्या के रूप में प्रस्तुत किया और कालों की बढ़ती दावेदारी को गोरों के बीच भय की बढ़ती आशंकाओं की ओर इशारा किया. इसके साथ ही उन्होंने कर्नर आयोग, जिसने प्रवृति की निंदा की थी, उसे और बढ़ावा दिया. आयोग ने यह आरोप लगाया था कि बहुत सारे शहरों में मुख्य अधिकारियों की दंगों के प्रति प्रतिक्रिया कालों के असंतोष के मुख्य कारणों का समाधान करना नहीं थी, इसकी जगह पर “पुलिस को प्रशिक्षित करने और ज्यादा अत्याधुनिक हथियारों से पुलिस को लैस करने पर जोर था.”

पूरा लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 


सूरज येंगड़े, https://hindi.caravanmagazine.in/essay/race-caste-and-what-it-will-take-to-make-dalit-lives-matter-hindi


Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close