SEARCH RESULT

Total Matching Records found : 261

महामारी के दौर में बहुआयामी गरीबी के चक्र में फंसे लोग, 3 से 10 साल तक पिछड़ सकते हैं विकासशील देश!

बहुआयामी गरीबी मौद्रिक यानी पैसे आधारित गरीबी नहीं है बल्कि यह गैर-मौद्रिक आधारित गरीबी है, जो सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को प्राप्त करने की चुनौतियों से दृढ़ता से जुड़ी है. हालाँकि पहले गरीबी को केवल मौद्रिक यानी धन आधारित गरीबी के संदर्भ में ही परिभाषित किया गया था, लेकिन अब गरीबी को लोगों के अनुभवों की जीवंत वास्तविकता और उनके द्वारा भोगे जाने वाले अनेकों अभावों से जोड़कर देखा जाता...

More »

गरीबी और असमानता

[inside]ग्लोबल मल्टीडायमेंशनल पॉवर्टी इंडेक्स 2020[/inside] – चार्टिंग पाथवेज आउट ऑफ मल्टीडाइमेंशनल पॉवर्टी: एचिविंग द एसडीजी (जुलाई 2020 में जारी) नामक रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्ष इस प्रकार हैं: (देखने के लिए यहां क्लिक करें.) • चार देशों- अर्मेनिया (2010–2015/2016), भारत (2005/2006 2015/2016), निकारागुआ (2001–2011/2012) और नार्थ मैसेडोनिया (2005/2006--2014) ने 5.5-10.5 वर्षों में ही अपने वैश्विक MPI-T वेल्यू को आधा कर दिया (अर्थात बहुआयामी गरीबी सूचकांक, समय के साथ सख्त तुलना के लिए सामंजस्यपूर्ण संकेतक परिभाषाओं पर आधारित है). ये देश दिखाते...

More »

चीन और इंडोनेशिया के बाद अमेरिका है समुद्र में प्लास्टिक प्रदूषण का जिम्मेवार

-डाउन टू अर्थ, एक नए अध्ययन से पता चला है कि अमेरिका तटीय प्लास्टिक प्रदूषण फैलाने वाले देशों में तीसरे स्थान पर है। इसके प्लास्टिक कचरे के निर्यात के साथ-साथ देश में कूड़े की अवैध डंपिंग बढ़ रही है। नए शोध ने इस धारणा को चुनौती दी है, जिसमें कहा गया कि संयुक्त राज्य अमेरिका अधिकतर कूड़े का सही तरीके से प्रबंध कर रहा है। जिसमें कूड़े, प्लास्टिक कचरे को एकत्र करना...

More »

दुनिया का हर छठा बच्चा घोर ग़रीबी में, महामारी से यह संख्या बढ़ने की आशंका: रिपोर्ट

-द वायर, कोविड-19 महामारी शुरू होने से पहले दुनिया का हर छठा बच्चा (करीब 35.6 करोड़) घोर गरीबी में जीवनयापन कर रहा था और यह स्थिति और खराब होने की आशंका है. यह आकलन विश्व बैंक और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) की नवीनतम विश्लेषण रिपोर्ट में किया गया है. ‘ग्लोबल एस्टीमेट ऑफ चिल्ड्रेन इन मॉनिटरी पॉवर्टी : ऑन अपडेट’ नाम से जारी रिपोर्ट में रेखांकित किया गया है कि उप सहारा...

More »

कोरोना वायरसः क्या सामान्य ज़िंदगी जीने के दिन लौट आए?

-बीबीसी, सरकार और मीडिया क्या कोरोना वायरस को लेकर ज़रूरत से ज़्यादा गंभीरता दिखा रहे हैं? क्या अब हमें आगे एक सामान्य जीवन की ओर बढ़ जाना चाहिए? - ये बड़े सवाल हैं. अर्थव्यवस्था की बुरी हालत को देखते हुए इस पर कुछ गौर करने की ज़रूरत है. यहां कुछ सकारात्मक बातें करते हैं. इससे कोविड-19 ख़त्म हो चुका है- जैसी सोशल मीडिया पर आजकल खूब दिखने वाले वाली राय को प्रोत्साहित...

More »

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close